सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

mowgli ki kahani असली मोगली कौन है?

 दोस्तों आज आप जानेंगे कि कार्टून का एक फेमस कैरेक्टर मोगली की सच्चाई के बारे में क्या मोगली एक काल्पनिक कथा है या इसका किसी व्यक्ति विशेष से ताल्लुक है या नहीं दोस्तों मोगली की कहानी हमने सुनी है पड़ी हुई है और कार्टून और फिल्मों के माध्यम से देखी भी है आज मैं आपको इस पूरे लेख के माध्यम से बताने वाला हूं कि आप जिस कार्टून कैरेक्टर के प्रेमी थे बचपन में वह कार्टून कैरेक्टर को कैसे बनाया गया किस आधार पर बनाया गया और किसके द्वारा बनाया गया


इस कार्टून कैरेक्टर को बनाने वाले roudyard kipling थे इन्होंने 1894 मैं roudyard kipling ने इस किरदार को द जंगल बुक नाम की इस रचना को प्रस्तुत किया थालेकिन किंतु परंतु क्या आप जानते हैं यह जो काल्पनिक किरदार था जिसका नाम मोगली रखा गया क्या वह सिर्फ कल्पनिक कहानी थी ऐसा नहीं है दोस्तों आपको बता दें की इस कहानी का का आधार हमारे भारत के बिहार से जुड़ा हुआ है अब आप ध्यान से पढ़िए आपको यह बता दूं कि यह द जंगल बुक नाम की जो मूवीस आपने देखी है इसका किरदार मोगली का जो जीवन आपने मूवी में स्टोरी में देखा वह पढ़ा होगा समझा होगा वह किरदार हमारे भारत के एक व्यक्ति पर निर्धारित है


यूपी के बुलंदशहर में  सन 1867 की बात है जब बुलंदशहर में एक घना जंगल हुआ करता था जंगल में शिकार के लिए लोग जाते थे वहां पर जंगली जानवर बहुतथे तो वहां पर एक शिकारियों का झुंड जंगल में शिकार कर रहा था शिकार करते करते वह एक गुफा के पास पहुंचे वहां उन्होंने देखा और आश्चर्यचकित हो गए उन्होंने देखा की भेड़ियों की गुफा मैं एक 4 से 5 साल का बच्चा भेड़ियों के साथ खेल रहा था भेड़िए भी उसके साथ खेल रहे थे उसे चाट कर उसे प्यार भी दे रहे थे. शिकारियों के झुंड में से किसी व्यक्ति ने कहा कि हमें इस बच्चे को इस  भेड़िएके इस झुंड से बचा लेना चाहिए शिकारियों के झुंड की सहमति होने पर उन्होंने इस गुफा पर हमला कर दिया कई भेड़िए मारे गए.


mowgli ki kahani
mowgli ki kahani 

भेड़ियों में जो मुखिया होता है वह भी मारा गया शिकारियों के झुंड ने बच्चे को अपने साथ ले लिया और भेड़ियों की मांद या यूं कहे की भेड़ियों की गुफा को आग लगा दी बच्चे को शिकारियों ने कुछ समय तक रखा फिर उसे आगरा के सिकंदराबाद के भीतर जो सिकंदरा मिशन अनाथालय को इस बच्चे को सौंप दिया अनाथालय के प्रमुख इस बच्चे को देखकर बहुत ही आश्चर्यचकित थे क्योंकि यह बच्चा पूर्ण रूप से जानवरों की तरह आचरण करने लगा था उसे जब गिलास में पानी दिया गया पीने के लिए तो उसे समझ नहीं आया कि उसे क्या करना है तब वहीं जमीन पर गड्ढा देख उस में भरा पानी उसने किसी भेड़िए या शेर की भांति उस गड्ढे में भरे पानी को अपनी जीभ द्वारा पिया यह देख अनाथ आश्रम के लोग समझ चुके थे कि  इसे यहां पर इस को बड़ा करना एक बहुत ही बड़ा चुनौती का काम होगा क्योंकि अनाथालय के पूरे स्टाफ को इस तरह के बच्चे को कैसे हैंडल किया जाए यह नहीं मालूम था और ना ही कोई ज्ञान था.


यहां पर इसका नामकरण हुआ इसे यहां पर एक नाम दिया गया दीना सनीचर दि ना सनीचर अनाथ आश्रम में अन्य बच्चों के साथ ही रहता था लेकिन वह किसी को भी अपना मित्र नहीं बना पाया सब बच्चे उससे डरते थे क्योंकि वह जानवरों की तरह आवाज निकालता था कच्चा मांस खाता था और पूरी हरकतें उसकी जानवर जैसी थी लेकिन उसकी दोस्ती आश्रम के अंदरपल रहे एक कुत्ते से हो चुकी थी आश्रम के लोगों को उससे पालना पोषण करना बहुत ही कठिन था क्योंकि वह सिर्फ जानवरों की भाषा बोलता था उनकी तरह आवाज निकालता था जिससे वह समझ नहीं पाते थे कि उसे क्या चाहिए या इसे किस चीज की जरूरत है.


यही नहीं वह जानवरों की तरह अपने दोनों हाथों और दोनों पैरों के सहारे चलता था उसे चलता हुआ देखकर ऐसा लगता था कि कोई चार टांग वाला जानवर चल रहा है दीना को कई सालों तक पका हुआ खाना नहीं खाया और ना ही उसने बर्तन में पानी पिया और साथ ही में रह रहे बच्चे भी उससे वो डरते थे क्योंकि वह खेल खेल में उन्हें चाटता था और कभी-कभी काट भी लेता था उसे स्नेहा मात्र उस कुत्ते से मिल रहा था जो उसके साथ उस आश्रम में पल रहा था अनाथालय के सभी वरिष्ठ अधिकारी व कर्मचारियों ने देना को एक सहज और सरल मानव जीवन व्यतीत करने के लिए उसे ट्रेनिंग विधि भी दी लेकिन उन्हें कोई खास कामयाबी नहीं मिल पाई कई सालों के प्रशिक्षण देने के बाद दीना ने पके हुए भोजन को खाना शुरु कर तो दिया लेकिन उसकी जानवरों वाली फितरत उसे खाने से पहले सुगंध लेने की की आदत को हमेशा के लिए उसके साथ रही और उसी के साथ चली गई।


वह हमेशा खाने  की सुगंध लेकर ही उसे खाना उचित समझता था आश्रम के सभी कर्मचारियों ने उसे बोलना सीखाने के लिए कई तरह के प्रयास किए लेकिन वह उसे बोलना सिखा नहीं पाए वह सिर्फ जानवरों की तरह ही बात करता इशारे करता था और हमेशा जानवर कीजैसी ही निकाला करता था इससे ही आवाज से वह अपनी बात समझाने की कोशिश किया करता था कुछ सालों के बाद धीरे धीरे दीना अपने दो पैरों पर चलना सीख गया था और इंसानों की तरह कपड़े पहनने भी लगा था कुछ अच्छी आदतें सीखने के साथ-साथ उसने एक बुरी आदत भी इंसानों से सीख ली थी यदि वह यह आदत जो बेहद बुरी है अगर नहीं सीखता इंसानों से तो शायद वह अपनी लंबी आयु तक जीवित रहता इंसानों को सिगरेट पीता देख.


बीड़ी पीता देखे वह भी बीड़ी पीने लगा सिगरेट पीने लगा वह इतनी बीड़ी सिगरेट पी चुका था इतनी पीने लग गया था उससे बीड़ी पीने की सिगरेट पीने की इतनी बुरी आदत थी कि वह पल पल में बीड़ी पीने लग गया था उसने इतनी बीड़ी पी इतनी सिगरेट पी कि वह मात्र 35 वर्ष की आयु में ही चल बसा दीना कभी अपनी जानवरों वाली प्रवृत्ति को नहीं बदल पाया उसने पूरे जीवन में किसी से दोस्ती नहीं की उसने किसी भी व्यक्ति स्त्री पुरुष किसी पर भी अपनापन लगाओ नहीं दिखाया।


दोस्तों आज भी दीना के उस समय जब उसे शिकारियों ने अपने कब्जे में लिया था या यूं कहें कि अपने पास रखा आश्रम तक ले गए उसके पहले वह जंगल में कैसे आया जानवरों के पास कैसे जीवित रहा यह एक ऐसा सवाल है जिसका जवाब तब से लेकर अब तक नहीं मिल पाया है इसी कहानी को मतलब दीना की कहानी परनजर रखते हुए roudyard kipling ने जंगल बुक की रचना की इसमें कई काल्पनिक तत्व जोड़े गए तो दोस्तों यह है भारत के असली मोगली के बारे में एक छोटा सा लेख इसमें आपको पूर्ण जानकारी हमारे भारतीय मोगली के बारे में पढ़ने को मिली यदि आप इस जानकारी से वंचित  थे और आपको लगता है कि आपकी पहचान वाले रिश्तेदार या जो भी इस कहानी को नहीं जानते हैं तो कृपया कर इस पोस्ट को सभी के साथ शेयर करें धन्यवाद read more kahani

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी कहानी एक जिद्दी बच्चे की l

दोस्तों यह हिन्दी कहानी एक जिद्दी बच्चे की है जिसे उसके माता-पिता उसे अपने जिद्दीपन से कैसे छुटकारा दिलाते हैं एक महानगर की बात है वहां पर एक फैमिली रहती थी जो बहुत ही अमीर थी अमीर फैमिली में हस्बैंड वाइफ और एक बच्चा रहता था उस बच्चे की मां और उसके पिता उसके लिए सब कुछ करने के लिए हमेशा तैयार और उसकी खुशी के लिए सब कुछ करते थे वह जो बोलता था वैसा वह करते थे यही कारण था कि वह बच्चा एक जिद्दी बच्चा बन गया वह जो चीज करने के लिए कह देता वह मजबूरन उन्हें करना पड़ता था ममी पापा अपने बच्चो को बहुत प्यार करते हे यह बात जब बच्चा बढ़ा हो जाता हे तब समझता है। हिन्दी कहानी एक जिद्दी बच्चे की  अब धीरे धीरे इनके बच्चे का जिद्दीपन बढ़ता जा रहा था यह अब बहुत ज्यादा परेशान हो गए थे वह बच्चा जब स्कूल से घर आता तो मां के हाथ का बना हुआ स्वादिष्ट खाना नहीं खाता और बर्गर पिज्जा खाने की जिद करता यह उसका रोज का काम था लेकिन एक दिन उसकी मां ने उसे साफ मना कर दिया कि मैं तुझे बर्गर पिज़्ज़ा आइसक्रीम कोल्डड्रिंक चिप्स यह सब नहीं दूंगी आज तुझे तो मेरे हाथ का खाना खाना ही होगा वह मना करके अपने रूम में चला जाता है उ

जब कोई लड़की आपको इग्नोर करे तो क्या करे

पहले देखी थी अब इग्नोर करती है इसका मुख्य कारण क्या हो सकता है वह मैं आपको आज बताने वाला हूं इस पोस्ट के माध्यम से आप जानेंगे कि लड़की पहले तो आपको देख कर मुस्कुराती थी आपको देखकर smileदेती थी आपको लाइन देती थी लेकिन अब वहां अब आप को देख नहीं रही है और और ना ही स्माइल ले रही है ऐसी सिचुएशन में आप क्या करें कि वह आपको फिर से पहले की तरह ही देखें आपको चाहे आप से प्यार करें इसके लिए आपको करना यह है कि आपको अपने आप पर थोड़ा ध्यान देना है आपको अपना ड्रेसिंग सेंस फिर से सुधार लेना है और आपको जब भी वह आपके सामने आती है तो आपको उसे देख कर स्माइली देनी है जिससे लड़की जो आप को इग्नोर करके सबक सिखाना चाहती है उसे यह लगेगा कि आप पर तो उसका इग्नोर करने के तरीके का कोई फर्क नहीं पड़ा। जब कोई लड़की आपको इग्नोर करे तो क्या करे दोस्तों लड़की के इग्नोर करने के बहुत सारे कारण होते हैं जैसे कि जब लड़की आपसे प्यार करती है आपको देखती है स्माइल करती है वह ज्यादा से ज्यादा लाइन देती है बता देती है कि वह आपसे प्यार करती आप पसंद करती है दोस्तों लड़की तब तक आप को लाइन देती रहती है जब तक उसे यह समझ में नहीं आ जात

लड़कियों के प्यार के इशारे समझना.

दोस्तों लड़की पटाना या उससे फ्रेंडशिप करना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है दोस्तों आपको बताना चाहता हूं की जब तक लड़की आपको पसंद नहीं करेगी या नहीं चाहेगी  तब तक आपको लाइक नहीं करेगी जब तक आप कितनी भी कोशिश कर ले आप उसका प्यार नहीं बन सकte है आपको लड़की के हाव-भाव और लड़कियों के प्यार के इशारे समझना पड़ेगा. लड़कियों के प्यार के इशारे समझना. लड़की कैसे पटाए दोस्तों जब भी आप लड़की के सामने आती हैं तो वह आपको देखती है मेरा कहने का मतलब है उसका देखना मतलब उसकी नजरों का आपकी नजरों से मिलना और कम से कम 5 सेकंड तक मिलना और साथ ही उसके चेहरे पर स्माइल होना यह संकेत होता है कि वह आप मैं इंटरेस्टेड है बस यही इशारे होते हैं समझने के लिए कि वह आपको पसंद करती हैयदि लड़की किसी के साथ खड़ी है और और बार-बार आपको देखकर हल्की सी मुस्कुराहट देती है और अपनी ड्रेस ठीक करती है या अपने बालों को ठीक करती है तो आप समझ ले कि आप उसे अच्छे लगते हैं दोस्तों यदि ऐसे संकेत आपको मिल रहे हैं तो आप बात करने का मौका देखिए आप को मौका मिलता है बात करने का जरूर करें कुछ भी बात करें लेकिन बात जरूर करें बस आपको या नहीं कहना है कि