सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अकबर का मनहूस नौकर लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बादशाह अकबर का मनहूस नौकर

दोस्तों सुबह का समय था बादशाह अकबर अपने बिस्तर पड़े पड़े पानी मांगे जा रहे थे आस पास उनका कोई सेवक नजर नहीं आ रहा था पता नहीं कहां से महल के भीतर जो शौचालय को साफ़ स्वच्छ रखने वाला व्यक्ति बादशाह महाराज के कक्श के सामने से गुजर रहा था। तभी नौकर ने उनकी आवाज सुन ली और पानी का गिलास लेकर उनके पास आ गया. बादशाह अकबर को इतनी प्यास लगी थी कि वे खुद को उसके हाथ से पानी लेने से नहीं रोक पाए तभी वहां बादशाह अकबर के मुख्य सेवक आ गए और उन्होंने कचरा साफ करने वाले को वहां से डाट कर वहा से निकाल दिया। अकबर का पेट भी खराब हो गया था तभी हकीम को भी बुलवाया गया महाराज की हालत में सुधार नहीं हुआ। फिर रात में भी आए उनके साथ आये ज्योतिषी भी थे उन्होंने कहा शायद आप पर किसी व्यक्ति का साया पड़ा है इसलिए तबीयत खराब हुई है बादशाह अकबर को तुरंत उस कचरा साफ करने वाले नौकर का ख्याल आया और उन्होंने सोचा उस मनहूस के हाथ से पानी पीकर मैं बीमार हुआ हूं। और बादशाह अकबर ने गुस्से में उसे सजा ए मौत सुना दी।  बादशाह अकबर का मनहूस नौकर  जब बीरबल को इस बात का पता चला तो वह उसके पास गए और उसे तसल्ली देने लगे औ